Saturday, 29 May 2010

भटकती शिक्षा

                                एक  छात्र को कहते सुना :" यार अब तो मौज ही मौज है ! पढ़ो चाहे न पढ़ो पास तो हो जायेंगे ! सुना है CCE वाले सब को पास करने आ  गए हैं! दुसरे ने कहा  : " अरे अब तो गुरूजी को पास करना ही होगा! CCE  के साथ रिजल्ट आंकलन भी तो आ गया है ! सुना है   २५ % से कम वालों की पगार काट दी जाएगी ! अब तो हमारे हाथ में लड्डू ही लड्डू हैं!
                              उधर अध्यापक चाय की दूकान पर बैठे चुटकी ले रहे थे:" अब तो पढ़ने पढ़ाने का स्यापा भी जाता रहा ! किसे क्या ग्रेड देना है, ये  हमारी मर्जी  ! हम पढ़ाएं या न, हमारी मर्जी ! सरकार भी क्या गजब  का काम करती है ! " वाह, रिजल्ट मूल्याँकन निति भी ऐसे वक्त आई है, जब इम्प्लेमेन्ट होगी तब तक रिजल्ट ही नहीं रहेगा! स्कूल आओ,  हाजिरी लगाओ और चोखी पगार लो! अगर रिजल्ट का स्यापा रह  ही गया तो नक़ल देना न देना तो हमारे हाथ में है ! ड्यूटी भी हम देंगे और फ्लाईंग   ड्यूटी भी हमारे भाई ही करेंगे ! तो भैया ये तो हमरे हाथ में भी लड्डू ही लड्डू !        
                              एक अभिभावक के कान में ये बात गयी तो हँसते हँसते रोने लगा : " अरे भाई कोई ये तो बताओ  मेरे हाथ में क्या आया  ! परियोजना  अधिकारी भी खीज कर बोले :" सच पूछो तो  हम भी नहीं कह सकते  आपके हाथ में क्या होगा ! पर हम फिर भी कहेंगे की शिक्षा का स्तर बढ़ेगा ! सरकार ऐसा कहती है ! 
                            मंत्री जी बोले:"  शिक्षा का स्तर जरूर बढ़ेगा क्योंकि हम मैं न कोई अध्यापक है न ही कोई छात्र और पप्पू का पापा चाहता है पप्पू पास होना चाहिए !पप्पु भी खुश और पप्पु का पापा भी खुश !  तो भाई जब सब के हाथ में लड्डू हैं तो शिक्षा का स्तर घटे या बढ़े क्या फर्कै ? पर हाँ इतना खर्च हो रहा है तो जरूर स्तर बढ़ेगा !
               शिक्षा की नई थ्योरी काग़ज़ों पर बढ़िया तो लगती है पर यथार्थ कुछ और ही है, जिसे या तो अधिकारी लोग व सियासतअदां या तो नज़र अन्दाज़ कर रहे हैं या वो वास्तविकता को वी ई पी कमरों में बैठ कर नहीं देख पा रहे हैं ! ऐसे में अध्यापक ये तय नहीं कर पा रहा है कि वो अध्यापक है या फ़िर आंकड़े इकट्ठा करने वाला एक बाबू ! और शिक्षा की गुणवता का आलम ये है कि आज १०+२ का विद्यार्थि  एक वाक्य शुद्ध लिखने का साहस नहीं कर पाता ! यह हमारी हिन्दी का आलम है, अंग्रेज़ी तो दूर की बात है ! 
             मिटिंगों व सेमिनारों में अध्यापकों की आवाज़ को अनसुना कर दिया जाता है ! अध्यापाक कुंठित हो कर कागज़ो को काला करने पर मज़ाबूर है ! ऐसे में हम राष्ट्र को किस गर्त की ओर ले जा रहें है, कहना कठिन नहीं ! 
             यह कतई न माना जाये कि मैं SSA या RMSA का विरोध कर रहा हूं ! मेरा दर्द यह है कि इसे इस तरह से लागू किया जा रहा है जिस से अध्यापक अनावश्यक कार्यॊं में ज़्यादा उलझ रहा है और उस की आवाज़ दब कर रह गयी है ! 
       शिक्षा मैं सोचे समझे प्रयोग हमें अनिश्चत परिणामों की ओर ले जा रहे हैं ! परिणाम कितने भयन्कर होंगे, एक शिक्षक होने के नाते में भलिभांति अनुमान लगा सकता हूं !   लोकतंत्र के मक्कड़्जाल में यहाँ कौन से तंत्र का मन्त्र चल रहा है मैं  यह सोचते सोचते खामोश हो जाता हूं, ! पर  बहुत खतरनाक होता है बेजान ख़ामोशी से भर जाना ---------------!

6 comments:

  1. यह हमारा दुZभाग्य था कि हमें इस प्रकार की शिक्षा प्रणाली से गुजरना पडा जिसमे सिफZ रटंत शिक्षा का बोलबाला था। जिस कारण आज भी हम सिफZ Well Trained है Well Educated नही। वास्तविक्ता यह है कि अधिकांश आज का कला स्तातक एक अनपढ से कम नही जिसे शिक्षा के समय अपने फामZ तक भरने नही आते व शिक्षा के पश्चात किसी भी विष्य में निपुण्ता न होने के कारण स्वंम को ही किसी कायZ के योग्य नही समक्षतेे। इसलिए माननीय बाली जी हमें शायद इस नइZ शिक्षा प्रणाली का स्वागत करना चाहिए शायद रटंत शिक्षा से निजात पाकर हमारे नवयुवक जब अपनी Creativity के साथ शिक्षा गzहण करेगे तो शायद Intelligence and Knowledge without Morality and Modesty की प्रणाली खत्म होकर एक सुशिक्षति समाज के निमाZण हो सके व Lord Me-kale की बाबू बनाने बाली रटंत शिक्षा प्रणाली से निजात पाने का पहला कदम शायद यही से शुरु हो

    ReplyDelete
  2. आपके ब्लोग पर आ कर अच्छा लगा! ब्लोगिंग के विशाल परिवार में आपका स्वागत है! आप हिमाचल प्रदेश से सम्बधित है इसलिये हम आपको बताना चाहेगे कि हिमधारा ब्लोग हिमाचल प्रदेश के शौकिया ब्लोगर्स का एक प्रयास है ! आप इससे जुड़ कर अपना रचनात्मक सहयोग दे सकते है ! आपसे आग्रह है की हिमाचल के अन्य शौकिया ब्लोगर्स के ब्लॉग के पतें हमें ईमेल करें या आप उनका पता पंजिकृत करवा दें ताकि उनकी फीड हिमधारा में शामिल हो सके और स्तरीय रचनाओं की जानकारी पाठकों को मिल सके ! हिमधारा में प्रकाशित रचनाओं पर अपने विचार और सुझाव ज़रुर दें आपके विचार जहां रचना के लेखक को प्रोत्साहित करेंगे वहीं हिमधारा को और निखारने में भी हमें मदद देंगे! आप हिमधारा के दो और प्रयास (संकल्क)हिमधारा और टिप्स भी देखें और अपना सुझाव दें! अपना ब्लोग हिमाचली ब्लोगर्स पर भी पंजिकृत करें !आप अपना ब्लोग अन्य हिन्दी ब्लोग संकल्कों ब्लोगवाणी , चिठ्ठाजगत,हिन्दी लोक, हिन्दी ब्लोगों की जीवनधारा इसके अलावा आप इन संकल्कों पर अपना ब्लोग पंजिकृत करवा सकते है! पंजिकरण के दौरान साईट द्वारा जारी नियमों का पालन करें ! INDIBLOGGER, टेकनोक्रेती, टोप ब्लोग एरिया, टोप ब्लोगिग, ब्लोग टोप लिस्ट, फ़्यूल माई ब्लोग, माई ब्लोगिग एरिया, ब्लोग केटालोग, ब्लोग इन फ़्यूज़न, ब्लोग होप, ब्लोगरमा, टोप ब्लोग लिस्ट्स, माई ब्लोग डायरेक्ट्री, ब्लोगरोल इस तरह के प्रयास से आपकी रचनायें ज़्यादा पाठकों तक पंहुच सकती है! आप किसी भी भाषा में लिखते हो अच्छा पढे़ और अच्छा लिखें! ब्लोगिंग के लिये आपको शुभकामनायें!
    हैप्पी ब्लोगिंग!
    सहयोग की आशा सहित
    सम्पादक हिमधारा
    *************************************
    पुन: ओफ़लाईन हिन्दी लेखन के लिये डाउनलोड करें

    ReplyDelete
  3. शिक्षा मैं सोचे समझे प्रयोग हमें अनिश्चत परिणामों की ओर ले जा रहे हैं !

    Aapki chinta ko samjha ja sakta hai.

    ReplyDelete
  4. सच ही लिखा आपने...बेहतरीन पोस्ट. कभी हमारे 'शब्द-शिखर' पर भी पधारें.

    ReplyDelete
  5. ery true. CCE has brought many liberties also with it.But sir , if we see its positive side, an evaluator must be honest for an all round development of a child.Teaching fraternity has to decide the consequences of the new evaluation system.
    Kindly read my poem also on cce.
    regards.
    http://letpeaceprevaileverywhere.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. Good evening sir,
    Thanks for your comment on my collection. My creation is this on evaluation system.

    http://letpeaceprevaileverywhere.blogspot.com/2010/09/evaluation-whithin-new-frame.html

    You are rich in both the languages - Hindi as well as English.
    Regards.

    ReplyDelete